राज :

raajसूर्य बुद्धि मन चंद्रमा पृथ्वी देह विचार
प्रभु की पावन चेतना जीवन का आधार

ढलता सूरज कह रहा चेत सके तो चेत
धीरे धीरे समय की फिसल रही है रेत

इस जादूगर समय का समझ न आवे राज
आज हमें जो कल लगे, कल हो जावे आज