लम्हे :

lamhe

वो बेहतरीन वो प्यारे लम्हे
मेरी चाहत के दुलारे लम्हे

मेरी यादों को याद आते हैं
आपके साथ गुजारे लम्हे

आरजूओं में झिलमिलाते हैं
मेरी रातों के सितारे लम्हे

दूर से हौसला बढ़ाते हैं
दिल की कश्ती के किनारे लम्हे

बन गए डूबते दिल की खातिर
आज तिनके के सहारे लम्हे

पत्त नाहन :

patt

यो घुघुत के कुणौ के पत्त नाहन
क्या्प उलाण जस लुणौ के पत्त नाहन

आप्न कामौं मैं लाग रईं सब्बै
और कां के हुणौ के पत्त नाहन

मल्ल घर हंसणईं जो लोग उनूं
तल्ल घर को रुणौ के पत्त नाहन

एति बरस ठुल ठुला इस्कूलन मैं
के पढ़ौ के गुणौ के पत्त नाहन

है जां :

 

 

hai jaanभल दगड़ हो त ठा्ड़ उकाल लै सिथिल है जां
बुरी सोबत मैं बाट हिटण लगै मुस्किल है जां

सोचि समझि बेर हिटौ संग तां पड़ी ह्यूं मैं
जां लगै खुट पड़ाैं वां ठौर ठौर गिल है जां

लोग कूंनीं कि बखत एक जस नि रूंन कभैं
चमकनी सूर्ज लगै ब्याल जाणी पिल है जां

जै देखौ जब देखौ जां लै देखौ तौलाट मैं छू
मुणी धीरज हो त हर एक फंद ढिल है जां

काम

 

 

0000

 

 

जो काम सामन मैं हूं उई काम करन चैं
हर हाल मैं परमात्मा क घ्यान धरन चैं

हर आदमी समझों जि करनौं उई करनों
करनेर कोई और छू यो याद रखन चैं

भल कामौ भलै फल मिलौं नक कामौं नकै फल
भलि बात करन चैं सदा भल काम करन चैं

जो हुन छि उ हैगो जो हुनी छ उई होलो
यां देर छू अंधेर नहां धीर धरन चैं

दाज्यू

dajyu

लोग  आपणी कुनेर  भै  दाज्यू

यां त  एस्सै  हुनेर  भै  दाज्यू

भ्यार भ्यारै यो जो हंसणै दुनियां

भित्र – भितरै  रूनेर  भै  दाज्यू

जां देखौ जै देखौ  डबल चाणौं

हर  तरफ  हेर फेर  भै  दाज्यू

क्वे जियौ या मरौ इना्र आंख मैं

आंस  कभै नै  उनेर  भै  दाज्यू

याद 

yaad

यो हा्व चलणै त कैकी याद ऊणै
उ बा्ति  जलणै त कैकी याद ऊंणै

यो ब्यालौ टैम ना्नि  है नानि  आहट
मकैं छलणै त कैकी याद ऊंणै

अन्या्र मैं घुण पसारि  बेर इन्तजारी
अब हा्त मलणै त कैकी याद ऊंणै

उज्या्ल लीबेर जरूरै आल सूरज
एक आ्स फलणै त कैकी याद ऊंणै