गजल: लाग्नौ:

laagnauगजल: लाग्नौ:

जै लै देखै जां लै देखौ
तौलाट मैं लाग्नौ
चंपौत मैं लाग्नौ उ ई
लूघाट मैं लाग्नौ

जीपौ बसौ क बीच मैं
रिटन्यान दुपहिया
हर रोड मैं लाग्नौ उ ई
हर बाट मैं लाग्नौ

इस्कूल मैं क्वे और क्वे
औफिस मैं परेसान
खेतिपाति मैं हो बिजनेस मैं हो
अलज्याट मैं लाग्नौ

मोबाइल मैं चैबेर जो
पढ़नौ या लेखन्नौ
एैराम मैं लाग्नौ उ ई
अब ठाट मैं लाग्नौ

गजल: अंदाज:

andaazगजल: अंदाज:

आओ भैटो चहा पि जाओ
गई दिनौं क रिवाज छू
हाय हैलो हाउ अर यू सी यू
बाय नई अंदाज छू

एत्थ उत्थ क्वे मिल्न्य नहां
अर अगल बगल क्वे पुछ्न्य नैं
फ्रैंड तमाम फेसबुक मैं अर
वट्सप लीबेर नाज छू

घुण मैं हाथ लगैबेर ढोक
दिनौ फैसन लै नई नहां
हग कैबेर अंग्वाल हाल्न्य
रीतौ क गजब आगाज छू

पैंली बस मैं और जीप मैं
इष्ट मित्र सित बात हुंछी
अब बाइक मैं और कार मैं
इंजन वालि आवाज छू

गजल: कस टैम:

kas taimगजल: कस टैम:

कस टैम आ कि आप्न
बिराना जसा है ग्यान
आंखा क साम्न रून्य
बजारौं मैं हरै ग्यान

सहरौं मैं काम कन्र्य
लिग्यान आप्नि फेम्ली
तलि मलि कुड़ी मैं रौन्य
एत्थ उत्थ कै न्है ग्यान

उस्यैं त हर एक गौं क
लोग माल कै जान्यान
अफसोस कि म्यर गौं मैं
सिरफ तीन मौ रै ग्यान

होरी का ढोल बांज्छ्य
जै आंगन मैं हर बरस
वां रून्य आप्न गड़ भिड़ा
लै बान्ज बनै ग्यान

गजल: अस्सल:

 

assalगजल: अस्सल:

हर हाल मैं सच बोल्नै कि
आदत बड़ी अस्सल
हर काल मैं एक इष्टे की
चाहत बड़ी अस्सल

एक बात बतूं जैले यो
संसार बनै रा
उ ई त कंर्छ हम्रि
हिफाजत बड़ी अस्सल

तुम सो्च न वीक विषय मैं
नाहन जो तुमूं थैं
उ द्यख जो वीले कर्रै
इनायत बड़ी अस्सल

अस्सल नै लाग्नि तेरी
रिसायै कि खमोशी
तै है त तेरी बोल्न्य
सिकायत बड़ी अस्सल

जब :

jabग़ज़ल :: जब ::

जब लगै हंस्न रयूं भ्यार बटै मीत बणी
और जब रुन पड्यूं त भित्र बटै गीत बणी

भीड़ मैं के छू सही के छू गलत पत्त नहां
जस सबन ले करौ उस्सै करण की रीत बणी

जो रंग रूप बोलण चालण मैं अलग लागणीं
उनूंकैं एक्कै बतौणा क लिजी प्रीत बणी

आदिम आदिम मैं भेद भाव करण छाड़ि दियौ
फिर आफी द्यख लियौ कि हार कसिक जीत बणी .. अधिक के लिए ‘DEVDAAR.COM’

देस के अन्दर :

desभाई सहाब जे हियां क्या हो रिया हैगा
देखो जिसे कुर्सी पे पड़ा सो रिया हैगा

यूं तो किसी को खास सिकायत नहीं लेकिन
एक आम आदमी है खड़ा रो रिया हैगा

नादान सबेरे से ही लाइन में लगा है
जे काम के टाइम को युं ही खो रिया हैगा

ईमान के परचम को जे रूमाल बना ले
बेकार में डण्डे का बजन ढो रिया हैगा

जे देस किसानों का है इस देस के अन्दर
काटेगा बोई आज जे जो बो रिया हैगा

लम्हे :

lamhe

वो बेहतरीन वो प्यारे लम्हे
मेरी चाहत के दुलारे लम्हे

मेरी यादों को याद आते हैं
आपके साथ गुजारे लम्हे

आरजूओं में झिलमिलाते हैं
मेरी रातों के सितारे लम्हे

दूर से हौसला बढ़ाते हैं
दिल की कश्ती के किनारे लम्हे

बन गए डूबते दिल की खातिर
आज तिनके के सहारे लम्हे