विचार: पंचतत्व:

 

panchtatvaविचार: पंचतत्व:

गुरु – निःसंदेह वत्स! वेद-पुराण प्रमाण हैं। गहन अध्ययन करो।

शिष्य – किताबों में मेरा दम घुटता है गुरुदेव ! मैं तो खुली हवा में सांस लेना चाहता
हूं।

गुरु – ये तो बड़ी खुशी की बात है वत्स! जिंदा रहने के लिए हवा ही सबसे पहली
जरूरत है, पर जीवन में आगे बढ़ने के लिए अध्ययन भी आवश्यक होता है।

शिष्य – आगे बढ़ना किसे है गुरुदेव ! मैं तो उपर उठना चाहता हूं। आसमान को
छूना चाहता हूं।

गुरु – आसमान ? वहां किसी की भूख नहीं मिटती वत्स ! उसके लिए भूमि पर ही
आना पड़ता है।

शिष्य – अब आप कहोगे कि जमीन भी जिंदगी का एक जरूरी तत्व है।

गुरु – बेशक वत्स! इन तत्वों की बात एक शेर में बड़ी खूबसूरती के साथ कही गई
है।

शिष्य – शेर में ? इरशाद !

गुरु – जिंदगी क्या है ? अनासिर में जहूर-ए-तरतीब ।
मौत क्या है ? किसी अज्ज़ा का परीशां होना।

शिष्य – गुरुदेव ! अनासिर मतलब ?

गुरु – पंचतत्व वत्स!

शिष्य -जहूर-ए-तरतीब माने ?

गुरु – क्रमबद्धता वत्स! जो लोहे के टुकड़े को चुंबक बना देती है और जीवन को
आकर्षक।

शिष्य – अज्ज़ा ?

गुरु – अंश या तत्व।

शिष्य – परीशां होना ?

गुरु – विचलित होना।

शिष्य – वाह गुरुदेव ! वाह !

विचार: गुरु – शिष्य:

 

guru shishyविचार: गुरु – शिष्य: संवाद

शिष्य – मेरे अंदर एक आग है गुरुदेव ! जो एक पल के लिए भी मुझे चैन से नहीं
बैठने देती।

गुरु – ये आग तो सभी में होती है वत्स! सभी को बेचैन करती है। वस्तुतः यह जीवन
का एक अनिवार्य तत्व है। ‘क्षिति जल पावक गगन समीरा। पंचतत्व मिलि अधम
सरीरा।’

शिष्य -लेकिन मेरे अंदर की ये आग कोई साधारण आग नहीं है गुरुदेव ! यह एक
जुनून है, किसी भी कीमत पर मुंबई जाने का और कुछ कर दिखाने का।

गुरु – तुम क्या समझते हो वत्स! कि ये जुनून मुंबई के स्लम्स में रहने वाले वाले
नौजवानों में कम है ? मेरे खयाल से तुम वहां की चिंता मत करो। तुम्हारे न
जाने से वहां का कोई काम नहीं रुकेगा।

शिष्य -लेकिन मैं अपने इस मन का क्या करूं गुरुदेव ! बार-बार लगातार उधर ही
भागता है ये मन।

गुरु – मन …यानी आकाश। ये तो कल्पना के क्षितिज तक दौड़ लगाता है। सभी का
भागता है वत्स! आकाश भी जीवन का एक अनिवार्य तत्व है।

शिष्य – अनिवार्य है तो आराम से क्यों नहीं बैठता ? हमेशा कुछ न कुछ तलाशता
रहता है। पता नहीं गुरुदेव ! इसकी ये प्यास कैसे बुझेगी ?

गुरु – पानी से वत्स! ठण्डे जल से। ये भी जिंदगी के लिए बहुत जरूरी होता है।

शिष्य – अब आप कहोगे कि ये भी जीवन का एक अनिवार्य तत्व है। क्रमशः