लोकभाषा

 

lokbhasha

 

कुमाउनी समाज की पृथकता तो इसी बात से उजागर हो जाती है कि उसमें
एक विशिष्ट भाषा मूल के लोग हैं। भाषा केवल अर्थ संप्रेषण के सामाजिक
उद्देश्यों की पूर्ति ही नहीं करती, वरन् अपने वक्ताओं की सांस्कृतिक विरासत
को भी सुरक्षित रखती है। एक ओर जहां वह निजी मानसिक अवस्थाओं की
अभिव्यक्ति का सक्षम साधन है, तो वहीं दूसरी ओर वह अपने वक्ता समाज को
अस्मिता प्रदान करने वाला सहज आधार भी है।

इतिहास इस बात का तो गवाह है कि कुमाऊं में समय समय पर विविध भाषा
भाषियों का राज रहा, लेकिन एक कटुसत्य यह भी है कि कोई शासन तंत्र
अपनी प्रजा को नई भाषा तो सिखा सकता है, पर उससे उसकी लोकभाषा नहीं
छीन सकता। लोकभाषाएं सामान्यत: आसानी से लुप्त नहीं होतीं, क्योंकि उनकी
अपनी जड़ें होती हैं, अपना एक ढांचा होता है

कालान्तर

kalantar

जब एक भाषा परिवार के व्यक्ति (पर्वत, नदी, वन आदि भौगोलिक कारणों से) अलग अलग रहने लगते हैं

और लम्बे अरसे तक उनका परस्पर मिलन नहीं हो पाता है, तो उनकी भाषा में अन्तर आने लगता हैं,

जो कालान्तर में विशिष्ट हो जाता है। उच्चारण तथा संरचना की दृष्टि से कुमाउनी के अन्तर्गत

इतनी अधिक बोलियों के अस्तित्व में आने का एक कारण यह भी माना जाता है कि

भौगोलिक दृष्टि से कुमाऊँ का अधिकांश क्षेत्र पहाड़ी और ऊबड. खाबड. है।

भाषिक संरचना तथा उच्चारण की दृष्टि से कुमाऊँ में अनेक बोलियाँ अस्तित्व में हैं।

भौगोलिक दृष्टि से भी पर्वतीय और उबड़ खाबड़ क्षेत्र में जैसे-जैसे दूरी बढ़ती जाती है,

बोलियों का अन्तर भी स्पष्ट होने लगता है। उदाहरण के लिए अल्मोड़ा की खसपर्जिया

और पिथौरागढ़ की सोर्याली का अन्तर देखा जा सकता है।

कुमाउनी भाषा क्षेत्र को प्रमुखत: दो भागो में विभाजित किया जाता है – पूर्वी और पश्चिमी ।

यह भी माना जाता है कि कुमाऊँ के पूर्वी क्षेत्र में पैशाची अपभ्रंश बोलने वाले

तथा पश्चिमी क्षेत्र में शौरसेनी अपभ्रंश बोलने वाले आकर बसे थे ।

यही कारण है कि पूर्वी कुमाऊं की बोलियों में पैशाची तथा पश्चिमी कुमाऊं की बोलियों पर

शौरसेनी का प्रभाव परिलक्षित होता है। इन दोनों उपभाषाओं के अन्तर्गत दस बोलियां मानी जाती हैं ।

कुमाउनी 

 kumauni

भिन्नता – किसी पहाड. के इस तरफ और उस तरफ के ग्राम वासियों

या किसी नदी के इस पार और उस पार के निवासियों के बीच

सम्पर्क न हो पाने से भी बोलियों में अन्तर पनपता रहता है।

यदि अल्मोडा और पिथौरागढ. की तरह बीच में अनेक पहाड./नदियाँ हों,

तो दोनों स्थानों की बोलियों में पाई जानेवाली भिन्नता आश्चर्यजनक नहीं।

 

अंतर – 1900 ई० में रायबहादुर श्री गंगादत्त उप्रेती ने कुमाऊँ में प्रचलित

अधिकांश बोलियों के उदाहरणों की तुलना करके यह निष्कर्ष प्राप्त किया था

कि इन बोलियों में न केवल स्थानीय कारणों से वरन् जातीय तथा सामाजिक स्तरीय कारणों से भी अन्तर है।

जार्ज गियर्सन ने (भारतीय भाषाओं का सर्वेक्षण) में कुमाउनी के इतिहास तथा बोलियों पर सोदाहरण प्रकाश डाला है।

 

कुमाउनी – पूर्व में नेपाल, पश्चिचम में गढ.वाल, उत्तर में तिब्बत ओर दक्षिण में तराई भाबर

के उपजाऊ मैदानों के मध्य अवस्थित कुमाऊं के इतिहास को पलटने से ज्ञात होता है कि

इस भू भाग में किरात, मंगोल, खस , सूर्यवंशी कत्यूरी, चन्द्रवंशी चन्द, गोरखा ओर अंग्रेज आदि रहे।

इतिहास गवाह है कि राजनीतिक उथल- पुथल के कारण होने वाले

सांस्कृतिक एवं सामाजिक सम्पर्कों से भाषा भी प्रभावित होती हैं।

 

बोली और भाषा

boliboli

 बोली –

बोली किसी भाषा का एक ऐसा विशिष्ट रूप होता हैं, जो अपनी भाषा के एक निश्चित भू भाग में व्यवहृत होता है।

उच्चारण, व्याकरण या मुहावरों की दृष्टि से अपनी भाषा से आंशिक भिन्नता रखने के कारण बोली का स्वतंत्र रूप प्रकट होता है,

लेकिन यह अन्तर भाषा या उसकी अन्य बोलियों से इतना अधिक भी नहींं होता कि उसे अलग भाषा माना जा सके।

भाषा –

कोई बोली तभी तक बोली मानी जाती है, जब तक वह सामान्य जन की बोलचाल का माध्यम होने के साथ-साथ

अन्य सार्वजनिक कार्यों का माध्यम नहीं बनती। जब सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक या राजनीतिक कारणों से

कोई बोली अपने विस्तृत भू भाग के साहित्य एवम् शिक्षा जगत के साथ.-साथ शासन के क्षेत्र में भी प्रतिष्ठित हो जाती है,

तो वह भाषा का दर्जा पाती है।

उपादेयता –

बोली जीवन का अंग होती है।

बोली परिवेश से अर्जित की जाती है।

बोली आत्मीयता की द्योतक होती है।

बोली व्यक्ति के समाजीकरण का माध्यम होती है।

बोली का प्रयोग अनौपचारिक सन्दर्भों में समाज का प्रत्येक व्यक्ति करता है।

बोली के माध्यम से विभिन्न वर्गों के लोग परस्पर विचार विनिमय कर लेते हैं।

बोली भाषासमाज को जोड़ती है ।

बोली से ही भाषा जन्म लेती है।

भाषा

pahadi

पहाड़ी भाषा

‘भारत का भाषा सर्वेक्षण’ के लेखक ग्रियर्सन ने

भारतीय आर्य भाषाओँ को तीन उपशाखाओं में विभाजित किया –

बहिरंग, अन्तरंग और मध्यवर्ती. इन तीनों उपशाखाओं में

६ भाषा समुदायों तथा १७ भाषाओँ की गणना की गयी है.

इस वर्गीकरण में कुमाउनी/गढ़वाली को अर्थात मध्य पहाड़ी को

मध्यवर्ती उपशाखा के पहाड़ी भाषा समुदाय में स्थान दिया गया है.

पहाड़ी भाषा समुदाय हिमाचल प्रदेश के भद्रवाह के उत्तर-पश्चिम

से लेकर नेपाल के पूर्वी भाग तक विस्तृत है.

इसके तीन प्रमुख रूप हैं – पूर्वी, पश्चिमी व मध्य.

पूर्वी पहाड़ी नेपाल में बोली जाती है.

पश्चिमी पहाड़ी हिमाचल प्रदेश में प्रयुक्त होती है

और मध्य पहाड़ी उत्तराखंड में व्यवहृत होती है.

मध्य पहाड़ी के अंतर्गत गढ़वाल में गढ़वाली

तथा कुमाऊँ में कुमाउनी का प्रचलन है.