गीत: ज़िंदगी:

zindagiगीत: ज़िंदगी:

एक उम्मीद मलि
आप्न स्वीना क झ्वल
टांगनी जां मरै ज़िंदगी

रीत कि छ यो बता
फर्ज है अब किलै
भाजनी जां मरै ज़िंदगी

आरसी में देखन्नै यो
कै की सकल
आप खन यदि आफी
नै पच्यान्नै अगर

छाड़ि आप्नी अकल
दोसरा की नकल
मंदिरों तक कतारों
कि लंबी डगर

चीज कि छ यो बता
द्याप्त थैं हर बखत
मांगनी जां मरै ज़िंदगी

आज जान्नैछ कां
भीड़ यो बावली
रात में सितनि नै
भोर में जाग्नि नै

ऐसि है गै छ को
आरजू मनचली
आप्न टेमै ले त
आंख लै लाग्नि नै

बात कि छ यो बता
रात और दिन किलै
जागनी जां मरै ज़िंदगी

गीत: पधान: वाद विवाद

padhaanगीत: पधान: वाद विवाद

है गईं इलक्सन सैणि मेरी जिति गै
अब बणि गयूं मि पधान

यो कसो कनक्सन सैणि तेरी जिति रै
उ इ बणलि पधान

कंट्रोलै कि दुकान है चिनि ली जाए
मड़तेल चाइंछ त ब्याउल हूं आए
बैठण हूं आए चहा पिण हूं आए
तब चल्लि मेरी दुकान
अब बणि गयूं मि पधान

तेरो अधिकार तेरी सैणिया उपार
वीक अधिकारौं पर तेरो अधिकार
कांई लगै मानण हूं नहां तैयार
ये इ लिजी तू लै मान
उ इ बणलि पधान

सैणि मेरी सिदी सादी क्वे ठगि ले लो
विक पछि कसि लगूं एतणो झमेलो
एक हाथ देलो कोई दोसरै ले लेलो
ऐ रौ खराब जमान
अब बणि गयूं मि पधान

सिद साद हुण कोई खराबी नी हुणी
सैणिया ले चलै राखी आज आधी दुणी
यां लगै उनूंकैं अब मौक दियौ मुणी
सैणी अर मैंस समान
उ इ बणलि पधान

भजन: आस:

aasभजन: आस:

मन मैं एक आस लीबेर
पुरो बिसवास लीबेर
करन पुकार ऐ रयूं
मैया त्यर द्वार ऐ रयूं

जो लै त्वैथैं जि लै कंूछ
दिंछै तत्काल तू
ममता ले भक्तौं खन
कंर्छे मालामाल तू

महिमा की याद लीबेर
दिल मैं इराद लीबेर
आज एत्तनार ऐ रयूं
मैया त्यर द्वार ऐ रयूं

दिल नै लागनो मेरो
अब संसार मैं
भजि भुजि पुजि गयूं
त्यर दरबार मैं

हिरदै की धाद लीबेर
एक फरियाद लीबेर
आज घारौंधार ऐ रयूं
मैया त्यर द्वार ऐ रयूं

गीत: जीवन जल:

 

jivan jalगीत: जीवन जल:

हिम पर्वत गलिबेर बगनौ छ
काईं नदियौं मैं काईं नहरौं मैं
बड़ि दूऱ है ऐबेर भरनौ भाण
यां गाऔं मैं वां सहरौं मैं

खेतों मैं फसल उगाइ जान्नै
डैमौं मैं बिजलि बनाइ जान्नै
खान पिन औ नैन ध्वेन चलनौ
नल मैं धारौं मैं लहरौं मैं

बड़ि दूऱ है ऐबेर भरनौ भाण
यां गाऔं मैं वां सहरौं मैं

चौमास मैं यो आफत है जां
संक्रांत मैं यो तीरथ है जां
यो ई गंगा यो ई जमना
ये ले इ छ रौनक चेहरौं मैं

बड़ि दूऱ है ऐबेर भरनौ भाण
यां गाऔं मैं वां सहरौं मैं

कुदरतै दियै सौगात तरल
जां चैंछि वांईं मिलनै बोतल
घर मैं लै आर ओ या फिल्टर
फंसि गै ब्यौपारी घेरौं मैं

तुम बस मैं जा या ट्रेन मैं जा
यां गाऔं मैं वां सहरौं मैं

गीत: रूख नि काटा:

 

rookh niगीत: रूख नि काटा:

गैस मिलौं बजार मैं
मिलौं मड़तेल
छाड़ि दिय अब आंसि
बड़्याट को खेल

पार भिड़ मैं को छै तू घस्यारी
रूख नि काटा
इनूं बचूनै की हमरि जिम्मेदारी
रूख नि काटा

रूख हुनीं द्याप्त जसा
रूख भगवाना
झाड़ पात फूल फल
इनै दिनीं प्राना

आप्न प्राना लिजी यो इ समझदारी
रूख नि काटा
इनूं बचूनै की हमरि जिम्मेदारी
रूख नि काटा

जे छैं अनपढ़ गंवार
उ काटनी रूख
दुनिय सोचणै देखि
धरती को दूख

आप्न खुटम् यो बनकाटि किलै मारी
पार भिड़ मैं को छै तू घस्यारी
रूख नि काटा

गीत: नै जानी:

 

nai janiगीत: नै जानी:

माछै की मछ्योल कभैं ध्वैबेर नै जानी
नराई उनूं की कभैं रवै बेर नै जानी

द्याप्त लिजी धूप नहां यारौं लिजी पूआ
म्यर लिजी टैम नहां दुणी लिजी सूआ

घरै कि फिकर जोगि हैबेर नै जानी
नराई सुआ की कभैं रवै बेर नै जानी

बल्फ मैं बिजुलि नहां लम्फु नहां तेल
दिल मैं पिरीति नहां कसिकैं हुं मेल

पिरीतै कि पीड़ काईं कैबेर नै जानी
नराई सुआ की कभैं रवै बेर नै जानी

भुरि भुरि उज्याव मैं गाड़ौ को सुसाट
पटै गईं आंखा म्यारा चाण चाण बाट

यसि इंतजारी भजन गैबेर नै जानी
नराई सुआ की कभैं रवै बेर नै जानी

पिणाउ पात क पाणि जस त्यर वैदा
यस वायदा कैं करिबेर के फैदा

पहाड़ै कि फाम माल जैबेर नै जानी
नराई सुआ की कभैं रवै बेर नै जानी

गजल: के बात नै:

ke baat naiगजल: के बात नै:

ये दुन्य मैं क्वे आदमी
नादान नै हुन चैं
आचार है व्यवहार है
अनजान नै हुन चैं

के बात नै सम्मान नै
करना कै ई को तुम
तुमरा हथार कै इ को
अपमान नै हुन चैं

के बात नै गर फैद नै
दी सक्ना कै ई खन
तुमरा हथार कै इ को
नुकसान नै हुन चैं

के बात नै कोई खुसी
गर बांटि नै सक्ना
तुमरा हथार गमजदा
इ्रन्सान नै हुन चैं