गज़ल : आदमी :

अपनी ज़ुबाँ से जब भी मुकरता है आदमी
जीते हुए भी उस घड़ी मरता है आदमी

यह जानते हुए भी कि हर चीज़ है फानी
क्यों अपने उसूलों से उतरता है आदमी

उम्मीद के पहाड़ पर मिलती है जब शि़कस्त
गिरता है चटखता है बिखरता है आदमी

जाता है गुमाँ टूट और आता है ़खुदा याद
जिस व़क्त मुश्किलों से गुजरता है आदमी

कुछ इस तरह का हो गया लोगों का रवैया
पढ़ता है और नौकरी करता है आदमी

जंगल में जानवर लगा करते हैं ़खतरना़क
शहरों में आदमी से भी डरता है आदमी

Published by

Dr. Harishchandra Pathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s