लोकसाहित्य: अन्य विषयक लोकोक्तियां:

anyलोकसाहित्य: अन्य विषयक लोकोक्तियां:

अन्य विषयक लोकोक्तियों के कई प्रकार हैं; जैसे –
भाग्य संबंधी:

तू जालै वां
भाग जालो कां
$$$$$$$$$

क्वे कूं के खूं
क्वे कूं के में खूं

कर्म संबंधी:

जैलि करि सकि, वीकि खेति
जैलि पढ़ि सकि, वीकि पोथि

$$$$$$$$$$$$

आपुणि आपुणि कै गे
चार दिन रै, ल्है गे

स्थान संबंधी:

द्याप्त देखण जागसर
गंगा नाणी बागसर

$$$$$$$$$$$$$

पार गाड़ा रौत
खाण बखत खुष हुणि
दिण बखत मौत

राज संबंधी:

बांजा घट की भाग उघौनी
बांजी गौ को दूद छीनी
उल्टी नाली भरी दीनी
सुल्टी बतै बेर लीनी

$$$$$$$$$$$$$$

गोरु मरौ त मर
बाछ मरौ त मर
सेर भरि दूद
दि जाइ कर

कृषि संबंधी:

खेती मल लिबेर
राजा बल लिबेर

$$$$$$$$
मडुवा राज
जब द्यख ताज

वर्षा संबंधी:

बरखा लिबेर घस्यार
आग लिबेर रस्यार

$$$$$$$$$$$

द्यो पड़ल कै सबनैले जाणि
बज्जर पड़ल कै कैले नि जाणि

ऋतु संबंधी:

चैमास को जर
राजा को कर

$$$$$$$$$

दस दसैं बीस बग्वाल
कुमूं बिसंग फुलि भंग्वाल

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s