लोकसाहित्य: सामाजिक लोकोक्तियां:

samajikलोकसाहित्य: सामाजिक लोकोक्तियां:

सामाजिक: सामाजिक लोकोक्तियों के कई प्रकार हैं; जैसे –

जाति संबंधी:

बामण च्यलक उजणन ऐ रस्यार बण
जिमदारक च्यलक उजणन ऐ घस्यार बण

$$$$$$$$$

जिमदार हुणि विचार नै
भैंस हुणि कच्यार नै

नारी संबंधी:

सैणि हुणि चूनै कि सौत
चोर हुणि खखारै भौत

$$$$$$$$$$$

मुरुलि बजूंछै मैं त्यार नि औनी
बिणाई बजूंछी मैं त्यार नि औनी

धर्म संबंधी:

जो द्यल तन हुणि
ऊ द्यल कफन हुणि

$$$$$$$$$$$

बिन गुरु बाट नै
बिना कोड़ी हाट नै

आचार संबंधी:

स्वा्र हुणि मरि गो नि कौन
आ्ग हुणि निमै गो नि कौन

$$$$$$$$$$$$$$

च्यल सुदरौं बबा का हात
च्येलि सुदरैं मै का हात

व्यक्तित्व संबंधी:

जां जां रघू पौण
वां नि रौ कुटी कौण

$$$$$$$$$$

सिरू सिर धार
बिरू बिर धार
टुकन्या बिचै धार

भोजन संबंधी:

गूड़ खै गुलैनी नै
लूण खै लुणैनी नै

$$$$$$$$$$

खा्ण हूं नि भै गेठी
कमर बांधि पेटी

नीति संबंधी:

राज करण आपुण देस
भीख मांगण परदेस

$$$$$$$$$$$$$

मैंसक उजणन ऐ ग्वाल बण
लुवक उजणन ऐ फाल बण

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s