लोकगाथा: लक्ष्य – बेध 4

 

lakshya a 4लोकगाथा: लक्ष्य – बेध 4

हिंदी रूपांतर

सुनहली मछली वेदी पर स्थापित की थी।
सोलह योजन का स्फटिक-स्तम्भ रोपा गया था।
स्तम्भ के नीचे स्थिर की थी तेल की चासनीं।

स्तम्भ की चोटी पर था धर्म-चक्र।
सुनहली मछली की हीरामणि-जड़ित आँखें थीं।
राजा द्रुपद ने प्रण किया था-

जो राजा मछली की आँखें बेध देगा।
जो राजा घुमा देगा धर्म चक्र;
तेल की चासनी में देखकर

जो बाण मारेगा (लक्ष्य पर)-
उसी राजा को कन्या ब्याह दूँगा।
पाँचाल देश में मेला जुटा था।

कन्या द्रोपदी ने तप किया था।
महादेव ने वर दिया था-
तीन लोक के मालिक, पति-प्राप्ति का वर दिया था।

श्रीकृष्ण जी ने मन में सोचा-
(अब) बिना अर्जुन के लक्ष्मयबेध कौन करेगा?
पाण्डव कुल का, पता तक नहीं था। क्रमशः

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s