नमूने:

उत्तराखण्ड: नमूने:

साहित्य के माध्यम से भाषा के विकास की दृष्टि से इनका योगदान सराहनीय माना जाता है। इनकी रचनाओं के कुछ नमूने द्रष्टव्य हैं –

दिन-दिन खजाना का भार बोकणा ले,
षिव-षिव चुलि मैं का बाल नै एक कैका।
तदपि मुलुक तेरो छोड़ि न कोई भाजा,
इति वदति ‘गुमानी’ धन्य गोरखाली राजा।। – गुमानी

मुलुक कुमाऊं में कफुआ बासो,
ज्वेकन है गयो खषम को झांसो।
हौसिया यारो कलजुग आलो,
च्यालाक हात बाबु मार खालो।। – कृष्ण पाण्डे

भाबर में नांगर जस भरी रूंछ पेट।
ल्वे मांस षुकी जांछ बड़ी जांछ रेट।। – षिव दत्त सती

तन्खा लिन्हीं, नी करना काम।
टी0 ए0 मोटर को आराम।।
फाइलन में छन फीता लाल।
एसिक पैं सब करनी हलाल।। – ष्यामाचरण दत्त पंत

सार जंगल में त्वे ज क्वे न्हा रे क्वे न्हा।
फुलन छै कि बुरूंष जंगल जस जलि जां।। – सुमित्रानंदन पंत

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s