अगर :

 

agarगजल: अगर:

उजाले की तरफ बढ़िए अंधेरे से
निराशा छोड़कर मिलिए सवेरे से

हकीकत की शकल को देखिए साहब
निकलिए खुशनुमा सपनों के डेरे से

पकड़िए रोशनी का हाथ धीरे से
न डरिए सांप से डरिए सपेरे से

संभल कर लीजिए अब काम हिम्मत से
बचाना है अगर जंगल लुटेरे से

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s