समुच्चय बोधक :

samuchchayभाषा : 2. समुच्चय बोधक अव्यय :

वाक्यों के रूपों, अंशों व उपवाक्यों को परस्पर जोड़ने वाले अव्ययों को
समुच्चय बोधक अव्यय कहते हैं। ये दो प्रकार के होते हैंः

अ – समानाधिकरणः वाक्य के रूपों, अंशों व उपवाक्यों को जोड़ने वाले अव्ययों को
समानाधिकरण समुच्चयबोधक अव्यय कहते हैं। इन्हें चार भागों में वर्गीकृत किया जाता हैः

क – संयोजकः संयोजन करने वाले अव्ययों को संयोजक कहते हैं; जैसेः और।

ख – विभाजकः विभाजन का कार्य करने वाले अव्ययों को विभाजक कहते हैं; जैसेः या, चाहे।

ग – प्रतिषेधकः प्रतिषेध का कार्य करने वाले अव्ययों को प्रतिषेधक कहते हैं; जैसेः किन्तु, परन्तु, लेकिन।

घ – अर्थवाचकः अर्थ स्पष्ट करने वाले अव्ययों को अर्थवाचक अव्यय कहते हैं; जैसेः यानी, मानो।

आ – व्याधिकरणः वाक्य के आश्रित उपवाक्यों को जोड़ने वाले अव्ययों को व्याधिकरण
समुच्चयबोधक अव्यय कहते हैं। इन्हें तीन भागों में विभाजित किया जाता हैः

क – कारण वाचकः कारण स्पष्ट करने वाले अव्ययों को कारण वाचक अव्यय कहते हैं। जैसेः किलैकि।

ख – संकेतवाचकः संकेत प्रदान करने वाले अव्ययों को संकेत वाचक अव्यय कहते हैं। जैसेः अगर …….. त।

ग – उद्देश्य वाचकः उद्देश्य का बोध कराने वाले अव्ययों को उद्देश्यवाचक अव्यय कहते हैं। जैसेः कि, ताकि।

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s