दानकर्ता :

dankartaग़ज़ल : दानकर्ता :

पेड़ जैसा दानकर्ता है कोई संसार में
जिसने सब अर्पण किया हँस हँस के पर उपकार में

खूबसूरत फूल कितने मीठे-खट्टे फल कई
और पत्ते ढेर सारे दे दिए उपहार में

बीज बांटे साथ उनके रूखी-सूखी टहनियाँ
छाल और जड़ तक निछावर कर दिए उपचार में

दे रहे छाया-बसेरा आसरा देते रहे
ज़िंदगी सारी लुटा दी प्राणवायु प्रसार में

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s