सार्वनामिक :

sarvnamikभाषा 6. सार्वनामिक विशेषणः

सर्वनामों से बने विशेषणों को सार्वनामिक विशेषण कहते हैं।
इनका दो रूपों में प्रयोग होता है- मूल रूप में और संरचित रूप में।

मूल रूप में –

निश्चयवाचक सर्वनाम ः दूरवर्ती उ कुक्रो्

निश्चयवाचक सर्वनाम ः निकटवर्ती यो् बाक्रो

अनिश्चयवाचक सर्वनाम ः सजीव क्वे आद्मि

अनिश्चयवाचक सर्वनाम ः निर्जीव के चीज

प्रश्नवाचक सर्वनाम ः प्राणि को् मैंस

प्रश्नवाचक सर्वनाम ः अप्राणि कि बात

सम्बन्धवाचक सर्वनाम ः अप्राणि जि काम

संरचित रूप में –

इनकी गणना गुण बोधक तथा परिणाम बोधक विशेषणों के अन्तर्गत की जा चुकी हैः

निश्चयवाचक सर्वनाम ः दूरवर्ती उ-उति-उसो्

निश्चयवाचक सर्वनाम ः निकटवर्ती यो-ए्ति-ए्सो्

प्रश्नवाचक सर्वनाम ः प्राणि को-कति-कसो्

सम्बन्धवाचक सर्वनामः: – जो-जति-जसो्

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s