रूख न काटा :

rukhगीत : रूख न काटा

गैस मिलैं बजार मैं मिलौं मड़तेल
छाडि़ दिय अब आंसि बड़्याट को खेल

पार भिड़ मैं तू को छै घस्यारी रूख न काटा
इनूं बचूनै कि तेरि जिम्मेवारी रूख न काटा

रूख हुनीं द्याप्त जस रूख भगवाना
झाड़ पात फल फूल इन दिनान पराना

पराना लिजी होलि समझदारी रूख न काटा
पार भिड़ मैं तू को छै घस्यारी रूख न काटा

जो छन अनपढ़ गंवार उं काटनी रूख
दुनिया देखनै अब धरती को दूख

आप्न खुट मैं किलै बनकाटि मारी रूख न काटा
इनूं बचूनै कि तेरि जिम्मेवारी रूख न काटा

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s