रखिए :

rakhiyeगजल : रखिए :

इन हवाओं को बहारों से सजाए रखिए
दिल के मौसम को खिजाओं से बचाए रखिए

सिर्फ पैरों को नहीं गाँव की गलियों को भी
रंग-ए-कुदरत की महावर से रचाए रखिए

ये जो जंगल हैं जरूरी हैं जिंदगी के लिए
इनको बस्ती के आस-पास उगाए रखिए

पेड़-पौधों से लताओं से और फूलों से
अपने माहौल को सरसब्ज बनाए रखिए

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s