ये जंगल :

ye-jangalगजल : ये जंगल :

कल की तनहाइयाँ ये जंगल हैं
आज रूसवाइयाँ ये जंगल हैं

आसमाँ के हसीन ख़्वाबों की
सब्ज परछाइयाँ ये जंगल हैं

गाँव के आस-पास नदियों की
शोख अंगड़ाइयां ये जंगल हैं

जिस हिमालय पे नाज करते हो
उसकी ऊंचाइयां ये जंगल हैं H

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s