आ जाती :

aa jatiगजल : आ जाती :

गीत होता तो किसी साज की याद आ जाती
इस बहाने किसी आवाज की याद आ जाती

फूल होता तो उसे चूमती तितली कोई
इस बहाने किसी परवाज की याद आ जाती

पेड़ होता कोई तो कूकती उस पे कोयल
इस बहाने किसी हमराज की याद आ जाती

जंगलों में नहीं अब भीड़ में तनहाई है
इस बहाने किसी जाँबाज की याद आ जाती .. अधिक के लिए ‘DEVDAAR.COM’

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s