ग़ज़ल

gazlon

ग़ज़लों के पेड़ :

कागज पर ग़ज़लों के पेड़ उगाए हैं
चार-चार शेरों में भाव जगाए हैं

पहले शेर जड़ाें की माफिक गहरे हैं
और दूसरे तने बने इतराए हैं

शेर तीसरे शाख-टहनियों से फैले
चौथे में पत्ते-फल-फूल समाए हैं

ऊपर से इरशाद कर रहे हैं बादल
वाह-वाह करने को पंछी आए हैं

Published by

drhcpathak

Retired Hindi Professor / Researcher / Author / Writer / Lyricist

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s